May 24, 2024

बच्‍चों की ब्रेन पॉवर बढ़ाने के ल‍िए डाइट और कसरत से संबंधित कुछ आसान टिप्स

How To Increase Focus On Study: संतुल‍ित आहार और व्‍यायाम की मदद से सेहतमंद रहा जा सकता है। शारीर‍िक और मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य के ल‍िए इन दोनों का संगम फायदेमंद माना जाता है। खासकर उन बच्‍चों के ल‍िए ज‍िनका पढ़ाई में मन नहीं लगता। पढ़ाई में मन न लगने के पीछे सेहत से जुड़े कई कारण हो सकते हैं जैसे तनाव में होना, ओवरथ‍िक‍िंग, एकाग्रता की कमी, थकान महसूस होना आद‍ि। इन समस्‍याओं को दूर करने के ल‍िए आहार और कसरत का सही अनुपात काम करता है। अब बोर्ड एग्‍जाम और फाइनल एग्‍जाम का समय है, तो बच्‍चे और उनके माता-प‍िता ये जानना चाहते होंगे क‍ि बच्‍चों की ब्रेन पॉवर बढ़ाने के ल‍िए उन्‍हें क्‍या करना चाह‍िए (How To Increase Brain Power)। इसी समस्‍या को ध्‍यान में रखते हुए आज हम आपको बताएंगे डाइट और कसरत से जुड़े कुछ आसान ट‍िप्‍स ज‍िनकी मदद से बच्‍चे का पढ़ाई में मन तो लगेगा ही, साथ ही उसकी ब्रेन पॉवर बढ़ेगी। इसके साथ ही बच्‍चे पहले से ज्‍यादा एकाग्रता के साथ पढ़ाई कर सकेंगे।

1. मेमोरी गेम्‍स की मदद लें

हमेशा खेल आपके बच्‍चों के ल‍िए बुरे नहीं होते। ब्रेन गेम्‍स या मेमोरी गेम्‍स (Memory Games) की मदद से एकाग्रता बढ़ाने में मदद म‍िलती है और पढ़ाई में मन भी लगता है। इसका ये मतलब नहीं है क‍ि पूरे द‍िन बच्‍चे को केवल गेम्‍स खेलने दें, खेलने का समय तय करें। उसके रूटीन में शारीर‍िक और मानस‍िक खेल जरूर शाम‍िल होने चाह‍िए। साल 2015 की एक स्टडी के मुताब‍िक 4,715 वयस्कों को दिन में 15 मिनट, सप्ताह में 5 दिनों तक ब्रेन गेम्‍स खेलने के ल‍िए कहा। शोध में पाया क‍ि इससे उन लोगों की बुद्ध‍ि पर सकारात्‍मक प्रभाव पड़ा। बच्‍चे को शतरंज, ज‍िग्‍सॉ पजल, सुडोकू, स्‍क्रैम्‍बल आद‍ि खेलने की सलाह दे सकते हैं।

यह भी पढ़ें: ज्‍यादा तनाव के कारण हो सकता है डाइजेशन खराब, अपच की समस्या से ऐसे बचें

2. वृक्षासन से बढ़ाएं एकाग्रता

tree pose benefits

वृक्षासन या ट्री पोज (Tree Pose) वाली इस मुद्रा को करने से एकाग्रता बढ़ाने में मदद म‍िलती है। इस योग को करने से द‍िमाग को एकाग्रता बढ़ाने में मदद म‍िलती है। एक पैर पर बैलेंस बनाने के ल‍िए द‍िमाग को संतुलन और स्‍थ‍िरता सीखना पड़ता है। ये दोनों ही गुण पढ़ाई में काम आते हैं। इस योग को करने के ल‍िए इन ट‍िप्‍स को फॉलो करें-

  • सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं।
  • हाथों को जांघों के पास रखें।
  • दाएं घुटने को मोड़ें और बाईं जांघ पर रखें।
  • बाएं पैर को सीधा रखें और सांसों की गत‍ि को नॉर्मल रखें।
  • सांस खींचें और दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं।
  • नमस्‍कार की मुद्रा में संतुलन बनाएं।
  • रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें।
  • सांस छोड़ते हुए शरीर को ढीला छोड़ दें।
  • धीरे-धीरे हाथों को नीचे लेकर जाएं।
  • इसी प्रक्र‍िया को बाएं पैर से भी दोहराएं।

यह भी पढ़ें: स्त्री इस उम्र में हो जाती है और भी ज्यादा रोमंटिक, पुरुष साथी में तलाशती है ईमानदारी

3. द‍िन में 40 से 50 म‍िनट कसरत करें

बच्‍चों का पढ़ाई में मन नहीं लगता, तो कसरत का सहारा ले सकते हैं। कसरत करने से एकाग्रता (Exercise Increases Concentration) में सुधार होता है। बच्‍चे को 1 घंटा बाहर जाकर खेलने दें। इस बीच वो साइक‍िल चलाए या कोई भी आउटडोर गेम खेल सकता है ज‍िसमें शारीर‍िक बल लगे। बच्‍चे के ल‍िए द‍िन में 40 से 50 म‍िनट कसरत काफी है। कई पेरेंट्स बच्‍चों को एग्‍जाम्‍स के दौरान बाहर खेलने नहीं जाने देते लेक‍िन इससे उनके मानस‍िक स्‍वास्‍थ्‍य पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। हर एक्‍ट‍िव‍िटी को समय सीमा के साथ क‍िया जाए, तो वो नुकसानदायक नहीं होती।

4. डाइट में शाम‍िल करें पोषक तत्‍व

पढ़ाई में मन न लगना, पोषक तत्‍वों की कमी (Vitamins and Minerals Deficiency) के कारण हो सकता है। एकाग्रता बढ़ाने के ल‍िए हेल्‍दी डाइट का सेवन जरूरी होता है। बच्‍चों की डाइट फल, सब्‍ज‍ियां, अंडे, दूध आद‍ि को शाम‍िल करना चाह‍िए। इसके अलावा बच्‍चे की डाइट में ओट्स, ओमेगा 3 फैटी एस‍िड, टमाटर, शकरकंद, कद्दू, गाजर, पालक, दही और पनीर ख‍िलाएं। बच्‍चे को तेल और म‍िर्च-मसाले वाले खाने से दूर रखें, इससे आलस्‍य बढ़ता है। साथ ही बच्‍चे को पर्याप्‍त मात्रा में पानी का सेवन करने की सलाह दें। पानी की कमी से ऑक्‍सीजन ब्रेन तक ठीक ढंग से नहीं पहुंच पाती।

5. तनाव घटेगा तो पढ़ाई में लगेगा मन

अगर आपका बच्‍चा तनाव है, तो उसका पढ़ाई में मन नहीं लगेगा। तनाव कम करने के ल‍िए पेरेंट‍िंग काफी हद तक मदद कर सकती है। बच्‍चे को तनाव कम करने के ल‍िए क‍िसी मनोवैज्ञान‍िक की जरूरत नहीं है। आप बच्‍चे के साथ बैठें, बात करें। जरूरी नहीं है क‍ि बात हमेशा पढ़ाई से जुड़ी हो। बच्‍चे को कहीं घूमने लेकर जाएं। बच्‍चे के साथ दोस्‍ताना व्‍यवहार रखेंगे, तो वो अपने मन की बात आपके साथ कह पाएगा। कई बार माता-प‍िता पास होने का डर या अच्‍छे नंबर लाने का भय बच्‍चे के मन में डाल देते हैं। इस कारण से बच्‍चे तनाव में आ जाते हैं। कई बार हमें सोसाइड तक के केस देखने को म‍िले हैं। इसल‍िए बच्‍चे के साथ सामान्‍य रहें। उसका तनाव कम करने के ल‍िए अच्‍छी नींद भी जरूरी है। कई बच्‍चे रात को पढ़ना पसंद करते हैं, ऐसे में उनकी नींद पूरी हो सके इसका खास ख्‍याल रखें।

पढ़ाई में मन लगाने और ब्रेन पॉवर बढ़ाने के ल‍िए हेल्‍दी डाइट और कसरत के साथ नींद और तनाव से दूर रहना भी जरूरी है। उम्‍मीद करते हैं ये ट‍िप्‍स आपको पसंद आई होंगी।

About Author

Please share us