April 16, 2024

शिक्षक द्वारा एबीवीपी का समर्थन करने पर एनएसयूआई ने पुतला फूंका, तो शिक्षक के समर्थन में उतरी एबीवीपी

मसूरी। एमपीजी कालेज में एनएसयूआई ने इतिहास के शिक्षक डॉ जेसाली द्वारा महाविद्यालय में एबीवीपी की बैठकें करने व छात्रों को जबरन एबीवीपी में ज्वाइनिंग करवाने के विरोध में शिक्षक का पुतला दहन किया व आरोप लगाया कि वह एबीवीपी को बढावा दे रहे हैं। एनएसयूआई ने प्रधानाचार्य को ज्ञापन देकर आरोपी शिक्षक को हटाने की मांग की है। दूसरी ओर एबीवीपी ने शिक्षक का समर्थन किया व एनएसयूआई के खिलाफ प्रदर्शन किया। 

एमपीजी कालेज में इतिहास के शिक्षक डॉ जेसाली द्वारा महाविद्यालय में एबीवीपी की बैठकें करने व छात्रों को जबरन एबीवीपी में ज्वाइनिंग करवाने को लेकर एनएसयूआई व एबीवीपी आमने सामने आ गए हैं। जहां एनएसयूआई ने शिक्षक के विरोध में नारेबाजी कर उनका पुतला दहन किया। वहीं एबीवीपी ने एनएसयूआई के आरोपों का खण्डन किया व शिक्षक का समर्थन करते हुए एनएसयूआई के खिलाफ नारेबाजी की।

इस मौके पर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष प्रिंस ने कहा कि कालेज के एक शिक्षक एबीवीपी के अध्यक्ष है व उनको सपोर्ट करते है व उनकी बैठकों में जाते हैं, जबकि कालेज में नहीं आते। ऐसे में शिक्षक कैसे पढाई करवायेगा। उन्होंने कहा कि जब तक उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया तब तक एनएसयूआई विरोध करेगा।

वहीं छात्र नेता जगपाल गुसांई ने कहा कि कालेज का एक शिक्षक लगातार एबीवीपी के बैठको में जाते हैं। उन्होंने कहा इस मानसिकता के शिक्षक एमपीजी कालेज में ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश में नहीं होना चाहिए। अगर उन्हें नही हटाया गया तो उग्र आंदोलन किया जायेगा।

इस मौके पर एनएसयूआई अध्यक्ष नवीन शाह, जौनपुर ग्रुप के अध्यक्ष रोहन राणा, विवेक चैहान, विकास चैहान, जुबेर, दीपक, प्रवीण बिष्ट, गौरव सजवाण आदि मौजूद रहे। 

वहीं प्रधानाचार्य अनिल चौहान का कहना है कि इसकी उनको जानकारी  नहीं है। इस संबंध में एक कमेटी बनायी जायेगी, जो इस मामले में जांच कर रिपोर्ट देगी व उसके बाद कार्रवाई की जायेगी।

About Author

Please share us

Today’s Breaking