June 16, 2024

मसूरी विंटरलाइन कार्निवाल के तहत आयोजित फूड फेस्टिवल में पर्यटकों को भा रहे उत्तराखंडी व्यंजन

मसूरी: मसूरी विंटरलाइन कार्निवाल के तहत लगे फ़ूड फेस्टिवल में बड़ी संख्या में पर्यटक व स्थानीय नागरिक पहाड़ी व्यंजनों सहित अन्य लजीज व्यंजनों का आनंद ले रहे हैं। वहीं फेस्टिवल में पहाड़ी उत्पादों, कपड़ों आदि की ब्रिकी भी खूब हो रही हैं। फेस्टिवल में जय बद्री विशाल आजीविका, देवभूमि रसोई, खोपचे, न्यू दून स्पाइस हास्पिलिटी, मिस्टर वेज, क्लब महिंद्रा, द टिक्का टैरेस, उडिपी कैफे, वैलकम सवाय, देवभूमि यूनिवर्सिटी, बदमाश कबाब, प्यारी पहाड़न, हिमालया ट्री, ब्रेटवुड होटल, गढवाल सभा, क्वांटम यूनिवर्सिटी, राजस्थानी फूड, स्वदेश कुटुंब सहित पहाड़ी उत्पादों के अनेक स्टाल लगे हैं।

मालरोड पर विंटर लाइन के तहत लगे फूड फेस्टिवल में पर्यटकों ने पहाड़ी व्यंजनों का आनंद लिया। दिल्ली से आये पर्यटक सुखविंदर सिंह ने कहा कि पहाड़ी व्यंजन पहली बार खाये जिसके स्वाद को शब्दों में नहीं बोल सकता। उन्होंने कहा कि ऐसे व्यंजन सभी जगह परोसे जाने चाहिए। खास कर दाल की पकोड़ी भाग व हरी चटनी के साथ खाने का अलग ही आनंद हैं वहीं झगोरे की खीर भी का स्वाद भी अलग है। फूड फेस्टिवल में गढवाल सभा ने पहाड़ी पकोड़ी व दाल के स्वांले का स्टाल लगाया है जहां पर्यटक बड़ी संख्या में इसका आनंद ले रहे हैं। गढवाल सभा की सुनीता रणावत ने बताया कि पर्यटकों सहित स्थानीय लोग उड़द की दाल के पकोड़े व भरवा स्वांले का आनंद ले रहे हैं व बहुत अच्छा रिस्पांस मिल रहा है।

इस मौके क्लब महेंद्रा के प्रबंधक अभिषेक ने बताया कि पर्यटक पहाड़ी खाने को बहुत पसंद कर रह हैं। उन्होंने बताया कि उनके संस्था ने यहां पर पहाड़ी व्यंजन लगाये हैं, जिसमें गहथ की दाल का सूरमा, पहाड़ी मूली, भटट व कंडाली के कबाब, भांग मुर्ग एवं जखिया मच्छी के पकोडे़, झगोरे की खीर, आदि परोसी गई है जिसे लोग पंसद कर रहे हैं।

वहीं प्यारी पहाड़न के स्टाल संचालिका प्रीति मंदोलिया नेे कहा कि हमारे स्टाॅल पर पूरा पहाड़ के पारंपरिक व्यंजन परोसे जा रहे है। इसके साथ ही युवा पीढ़ी को आकर्षित करने के लिए चाइनीज फूड के मोमो व स्प्रिंग रोल को मडुवे के आटे के साथ बनाकर परोसा जा रहा है जिसे बहुत पंसंद किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मडुवेे की चाय लोगों को खासा आकर्षित कर रही है व उसका टेस्ट बहुत पंसद किया जा रहा है।

द वैलकम सवाय के सैफ प्रकाश नेगी ने बताया कि उनके प्रतिष्ठान ने भूनी भात, कुकड़ी का शिकार, माछा भात के साथ ही पहाड़ी खाना लगाया है जिसे लोग काफी पसंद कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजनों से लोकल उत्पादों को महत्व मिलता है जिससे किसानों को लाभ होता है। उन्होंने कहा कि गहत का सोरबा, वहीं मीठे में चुल्लू व तिमले का केक व कोदे के बिस्कुट रखे हैं। जो ग्राहक आ रहे है वह खाने की सराहना कर रहे हैं। गढवाल सभा के स्टाॅल पर नमीता कुमाई ने कहा कि पर्यटक शत प्रतिशत स्वालें व पकोड़ों को विशेष रूप से पसंद कर रहे है। वहीं मंडवे के मोमो भी पर्यटक पसंद आ रहे हैं।

About Author

Please share us