May 24, 2024

उत्तराखंडी लोक संस्कृति के रंगों से सरोबार रही पहाड़ों की रानी मसूरी, झुमैलो व रामी बौराणी नाटिका ने दर्शको को मोहा

मसूरी। विंटर कार्निवाल के तहत तीसरे दिन भी मॉल रोड से लेकर मुख्य कार्यक्रम स्थल तक मसूरी उत्तराखंडी लोक संस्कृति के रंगों से सरोबार रही। लोक कलाकारों ने विभिन्न स्थानों पर अपने अपने कार्यक्रमो की प्रस्तुति दी। पर्यटकों ने विभिन्न विधाओं एवं आयोजित सांस्कृतिक एवं साहसिक कार्यक्रम का आनन्द लिया। जिसमें शहीद स्थल पर प्रोमिला नेगी ग्रुप ने झुमैलों की मनमोहक प्रस्तुति देकर दर्शकों का मन मोहां। वहीं सांस्कृतिक संध्या में मुख्य कार्यक्रम स्थल पर रामी बौराणी नाटिका की प्रस्तुति देख दर्शक भाव विभोर हो गये।

तीसरे दिन कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज हाथीपांव दूधली भदराज ट्रेक पर ट्रेकिंग, बर्डवाचिंक, फोटोग्राफी का आयोजन किया गया। जार्ज एवरेस्ट पर सोलो पैराग्लाइडिंग, गांधी चौक पर गोर्खाली सुधार समिति के लोक कलाकारों द्वारा प्रस्तुति, गढवाली लोक कलाकार कुसुम नेगी एवं उनके ग्रुप द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

वंही शहीद स्थल पर शहीद स्थल पर प्रमिला नेगी एवं ग्रुप ने झुमैलों सहित अनेक गानों पर नृत्य की प्रस्तुति दी।

वहीं सांस्कृतिक संध्या में मुख्य कार्यक्रम स्थल पर उत्तराखंडी फिल्म निर्देशक प्रदीप भंडारी द्वारा निर्देशित गढ़वाल के एक सैन्य परिवार की 200 साल पुरानी सत्य कहानी रामी बौराणी नाटक की प्रस्तुति ने दर्शकों को भाव विभोर किया। जिसमें सिपाही वीरू शादी के 5 वें दिन ही देश पर दुश्मन के आक्रमण के कारण सरकारी हुकम पर युद्ध में चला जाता है और 12 साल तक उसका कोई अतापता नहीं चलता है। युद्ध की इस विभीषिका से गाॅव में उसकी पत्नी रामी समेत पूरा परिवार जूझता है। फौजी की पत्नी रामी 12 सालों तक पति का इंतजार करती है और फौजी पति एक दिन भेष बदल कर आ जाता है। जिसे देख दर्शक भाव विभोर हो गये। इसके साथ ही शगुन सोशल वेलफेयर एवं सांस्कृतिक सोसायटी द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम, ढोलवादक नन्दलाल भारती द्वारा प्रस्तुति दी रिहा बांद आदि प्रस्तुति दी गई। होटल गढवाल टैरेस में आईटीबीपी करांटे तथा सेल्फ डिफेंस कला का प्रदर्शन किया जिसको पर्यटकों द्वारा खूब सराया गया। 

जिलाधिकारी सोनिका ने कार्यक्रम में प्रतिभाग कर रहे सभी पर्यटकों स्थानीय लोगों एवं कलाकारों को कार्यक्रम बढचढकर प्रतिभाग करने हेतु बधाई दी। उन्होंने कहा कि  मसूरी में स्थानीय निवासियों एवं पर्यटकों से आग्रह किया कि कार्निवॉल के प्रतिदिन के कार्यक्रम में का लुप्त उठाएं। उन्होंने कहा जहां कार्निवाल में पर्यटकों का मनोरंजन हो रहा है वहीं स्थानीय पर्यटन को बढावा मिलने के साथ ही लोंगों की आर्थिकी भी बढाने का प्रयास किया जा रहा है।

About Author

Please share us