June 22, 2024

नये साल के जश्न में डूबी मसूरी, पुलिस की सख्ती के कारण कम संख्या में पहुंचे पर्यटक, छोटे व्यवसायी हुए मायूस

मसूरी: पर्यटन नगरी मसूरी नये साल के जश्न में डूबी रही। हालाकि पुलिस व प्रशासन की सख्ती के कारण पर्यटक कम संख्या में पहुंच सके जिस कारण छोटे बड़े सभी व्यवसायी मायूस दिखे। वही होटल फुल रहे जिनमे बुकिंग रही।

पर्यटन नगरी में स्थानीय लोगों के साथ ही नये साल मनाने के लिए यहाँ पहुंचे पर्यटकों ने पुराने साल को विदाई दी व नये साल का स्वागत किया। होटलों में मध्यरात्रि तक जश्न चला व होटल रंगीनियों में डूबे रहे। इस मौके पर पर्यटकों ने जमकर नृत्य किए व खुशियां मनाई। दिल्ली से आई पर्यटक मोना ने कहा कि मसूरी आकर उन्हें बहुत अच्छा अनुभव हो रहा है रात को भले ही ठंड है लेकिन दिन का मौसम बहुत सुहाना है जिसका पूरा आनंद लिया जा रहा है। मौसम खुला होने से प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद ले रहे है, यहां की पहाडियां खासा आकर्षित कर रही है। वहीं नये साल का जश्न मना रहे है।

पर्यटक अश्विन ने कहा कि नये साल का जश्न मसूरी में मनाने आये है जिसके लिए सारी परेशानिंयों को भुलाकर अपने को तनाव से दूर रख कर पहाड़ों की रानी मसूरी की हसीन वादियों में मना रहे हैं व अपने को फ्रेश व एनर्जेटिक महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नया साल सबके लिए खुशिंयां व समृद्धि लेकर आये व सारी टेंसने दूर हो व खुशी का अनुभव हो। यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है।

होटल रमाडा के प्रबंधक हर्ष सेमवाल ने कहा कि हर साल की तरह इस साल भी नये वर्ष पर होटल एडवांस में पैक हो चुका है। हालांकि कोरोना आने के समाचार के बाद इन्कवारी कम आयी लेकिन हमारा होटल पहले ही पैक हो गया था जिस कारण कोई परेशानी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि होटल में आये पर्यटकों के लिए 30 दिसंबर की रात्रि को फन फेयर का आयोजन किया गया व रात्रि को जाने माने कव्वाल के माध्यम से कव्वाली का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसका पर्यटकों ने पूरा आनंद लिया। वहीं पुराने साल की विदाई पर खाने पीने व संगीत का कार्यक्रम आयोजित किया गया है जिसका पर्यटकों ने पूरा आनंद लिया। वहीं पर्यटकों को इंडियन, चाइनीज, कांटिनेंटल के साथ ही गढवाली फूड परोसा गया जिसका पर्यटकों ने पूरा आनंद लिया।

वहीं होटल एसोसिएशन ने पुलिस व प्रशासन की सख्ती पर कड़ी आपत्ति की है। होटल एसोसिएशन के सचिव अजय भार्गव ने कहा कि जो बड़े होटल हैं वहां पहले ही ओनलाइन बुकिंग हो चुकी है। लेकिन जो बजट के मध्यम होटल हैं उनको इससे नुकसान हुआ है व चालीस से पचास प्रतिशत तक पर्यटक ही आ पाये हैं। उन्होंने कहा कि जो पर्यटक बिना बुकिंग के आता है व अपने बजट के हिसाब से होटल तलाशता है, लेकिन वह पुलिस की सख्ती के कारण नहीं आ पा रहा है क्योकि पुलिस बिना बुकिंग वाले पर्यटकों को आने नहीं दे रही हैै। उन्होंने कहा कि कोविड के बाद जिस तरह होटल व्यवसाय प्रभावित हुआ था उसकी भरपाई करने की सभी प्रतीक्षा कर रहे थे लेकिन पुलिस की सख्ती से सब बेकार हो गया। जगह जगह रोड बंद कर दी गई है। मालरोड पर बोलार्ड लगा दिए गये जिस कारण पर्यटक होटल नहीं पहुंच पा रहे थे जिस पर मंत्री गणेश जोशी को कहा गया व उसके बाद बोलार्ड खोले गये। लेकिन बिना बुकिंग के आने वाले पर्यटकों को न आने देने से होटल व्यवसायियों को नुकसान हुआ है हालांकि इस संबंध में एसपी यातायात से कई बार वार्ता की गई लेकिन उनका कोई सहयोग नहीं मिला।

इस संबंध में पूर्व पालिकाध्यक्ष व रेस्टोरेंट व्यवसायी ओपी उनियाल ने कहा कि प्रशासन व पुलिस की गलत नीतियों के कारण आम जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है व बाहर से आने वाला पर्यटक परेशान है। उन्होंने कहा कि केवल बुकिंग वाले पर्यटकों को आने दिया जायेगा यह गलत नीति है। इससे आम मध्यम होटल के व्यवसायियों को भारी नुकसान हो रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस अपनी जिम्मेदारी से बचने के लिए यह सब कर रही है। जब पर्यटक ही नहीं आयेगा तो यह व्यवस्था किसके लिए है।

About Author

Please share us

Today’s Breaking