April 16, 2024

विंटरलाइन कार्निवाल के आखिरी दिन जहाँ गढ़वाली व हिमाचली गानों की धूम रही, वहीं वीर भड़ माधों सिंह भंडारी नाटिका ने दर्शकों को भावुक कर दिया

मसूरी: विंटरलाइन कार्निवाल का आखिरी दिन लोगों का भरपूर मनोरंजन हुआ। इसके तहत शहीद स्थल पर उत्तराखंड के लोक गायक जितेंद्र पंवार की प्रस्तुतियों ने श्रोताओं को मंत्रमुग्ध किया। उन्होंने सुण ले दग्ड़या, डाकिया दिदा सहित, अनेक गीतो की प्रस्तुति दी। उन्होंने इस मौके पर पाॅप गीत भी गाया जिस पर श्रोता झूम उठे। कार्यक्रम का संचालन अनिल गोदियाल ने किया। आईटीबीपी के ब्रास बैंड व पाइप बैंड की मधुर धुनों ने लोगों को रोमांचित किया।

गांधी चौक पर स्पर्श जनजाति सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था क्वानु चकराता से आये कलाकारों ने जौनसारी गीतों से लोगों को मंत्र मुग्ध किया। वहीं रजनीकांत सेमवाल एवं गु्रप ने गंगाड़ी लोक गीत व नृत्य की मनमोहक प्रस्तुति दी। इसी कड़ी में पौडी से आये संदेश कला सांस्कृतिक एवं सामाजिक संस्था की ओर से गढवाली गीतों की प्रस्तुति दी गई। वहीं शहीद स्थल पर दक्षिण भारतीय लोक संगीत की प्रस्तुति देने के साथ ही वोमिनिया बैंड ने अपनी प्रस्तुति देकर श्रोताओं को रोमांचित किया।

वहीं शाम को टाउन हाल में अपना परिधान अपनी पहचान नाम से उत्तराखंड फैशन शो का आयोजन किया गया। इसके बाद लोक गायिका मीना राणा ने अपने गीतों से श्रोताओं को झूमने पर मजबूर किया। उन्होंने कई गीत सुनाये जिस पर श्रोता जमकर थिरके। इसके बाद हिमाचली लोक गायक विक्की चौहान ने अपनी प्रस्तुति से समा बांधे रखा। उनके सुपर हिट गीतों चमचमांदे झुमके झुमके, सही पकड़े हैं, चुडपुरा भई चुड़पुरा, एलपी गाड़ी मां, बालमा मेरी बालमा, बबली टाटासूमो मां, नीरू चाली घुमदी, ओरी आजा तु आदि गीतों पर श्रोता जमकर झूमे। इसके आखिरी में पर्वतीय नाट्य मंच की प्रस्तुति वीर भड़ माधों सिंह भंडारी नाटिका ने दर्शकों को भाव विभोर कर दिए। नाटिका के मार्मिक दृश्य देख दर्शक भावुक हो गये। नाटिका की दर्शकों ने जमकर तारीफ की।

About Author

Please share us

Today’s Breaking