July 14, 2024

उत्तराखंड बाल सरंक्षण आयोग की अध्यक्षा ने बाल श्रम पर रोकथाम को लेकर की बैठक

मसूरी। उत्तराखंड बाल सरंक्षण आयोग ने बाल श्रम के रोकथाम, बचाव व पुनर्वास के संबंध में विभिन्न विभागों व शहर की विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की। बैठक में बाल श्रमिकों से संबंधित कई बिंदुओं पर चर्चा की गई। साथ ही बाल श्रम रोकने व उनको सही राह दिखाने के लिए सरकारी योजनाओं की जानकारी दी गई।

नगर पालिका सभागार में आयोजित बैठक में उत्तराखंड बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष डा. गीता खन्ना का एसडीएम मसूरी डा. दीपक सैनी ने गुलदस्ता देकर स्वागत किया। इस मौके पर डा. गीता खन्ना ने कहा कि होटल एसोसिएशन, व्यापार संघ, होम स्टे सहित तमाम संस्थाये बाल श्रम को रोकने के लिए कदम उठाये व उनके वैलफेयर के लिए कार्य करें। उन्होंने कहा कि आयोग का कार्य बच्चा पैदा होने से लेकर बालिग होने तक बच्चों को देखना है। उनके पोषण को देखना है ताकि वह कुपोषण का शिकार न हों व वे गलत व्यसनों में न पड़े। उन्होंने कहा कि आयोग से सभी विभागो का संबंध रहता है।

उन्होंने इस बात पर चिंता व्यक्त की कि मसूरी में स्कलों के पास शराब की दुकाने खोली जा रही है, बच्चे नशे का शिकार हो रहे है, स्कूलों के आस पास तंबाकू की ब्रिकी की जा रही है। इसके लिए उन्होंने एसडीएम व पुलिस को निर्देशित किया कि ऐसे मामलों को गंभीरता से लें। भारतीय समाज सबके बच्चे अपने बच्चों की भावना के साथ चलता है लेकिन पाश्चात्य संस्कृति के कारण यह भावना कम होती जा रही है। उन्होंने कहा कि आंगनवाडी में बच्चों के पोषण को लेकर खाद्य सुरक्षा योजना कहीं नहीं है। उन्होंने कहा कि समय बदला है, परिवारों की परिभाषा बदली है, बचपन का स्वरूप बदला है, बच्चों की आकक्षाएं बदली है। उन्होंने आहवान किया कि बच्चों को सही राह दिखाने के लिए सभी संस्थाएं अपने स्तर से प्रयास करे।

इस मौके पर एसडीएम डा. दीपक सैनी, पालिका अधिशासी अधिकारी राजेश नैथानी, उत्तराखंड होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप साहनी, मसूरी होटल एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय अग्रवाल, सचिव अजय भार्गव, व्यापार संघ अध्यक्ष रजत अग्रवाल, होम स्टे एसोसिएशन के अध्यक्ष देवी प्रसाद गोदियाल सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

About Author

Please share us

Today’s Breaking