March 4, 2024

कामरेड नागेंद्र सकलानी की शहादत दिवस पर सीआईटीयू मांगपत्र युक्त हस्ताक्षर अभियान करेगा शुरू

मसूरी। सेंटर ऑफ इंडियन्स ट्रेड यूनियन(सीआईटीयू) मसूरी शाखा की एक अहम बैठक यूनियन के माउंट रोज स्थित कार्यालय में सीटू के जिला सचिव कामरेड लेखराज व सीपीएम के जिला सचिव कामरेड राजेंद्र पुरोहित व आंगनबाड़ी कार्यकत्री सेविका यूनियन की प्रदेश अध्यक्ष जानकी चौहान की मौजूदगी में संपन्न हुई, जिसमे संगठित व असंगठित क्षेत्र के मजदूरों, किसानों, आशा व आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, व आम जनता से जुड़े मुद्दों पर गहनता पूर्वक चर्चा हुई।

माउंटरोज स्थित कार्यालय में आयोजित बैठक में सीआईटीयू के जिला सचिव कामरेड लेखराज ने श्रमिको की समस्याओं पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार मजदूर विरोधी है और गरीब, मजदूर व आम जनता के हकों पर कुतराघात करने का काम कर रही है। यही नहीं भाजपा सरकार सरकारी उपक्रमों का निजीकरण कर लगातार बेरोजगारी को बढ़ाने का कार्य भी कर सही है। रेलवे के निजीकरण के खिलाफ सिटी लगातार लामबंद है। महंगाई लगातार अनियंत्रित होती जा रही है। उन्होंने कहा सरकार श्रमिको, मजदूर तबके पर लगातार काले कानून थोपने का कार्य कर रही है। सरकार पहले 44 श्रम कानूनों को खत्म कर 4 श्रम संहिताएं थोपने जा रही थी, लेकिन जब सीटू व अन्य ट्रेड यूनियनों ने इसका विरोध किया तो केंद्र ने फिलहाल उसे रोक दिया। वही हाल ही में हिट एंड रन कानून को वाहन चालकों पर थोपने का कार्य किया जा रहा है, लेकिन इसका भी जब विरोध हुआ और बस ट्रक सहित वाहनों के पहिए जाम हुए तो लोकसभा चुनाव को देखते हुए सरकार ने इसे भी फिलहाल रोक दिया है। उन्होंने आगाह किया कि अगर मोदी सरकार 2024 में फिर से सत्ता में आती है तो ये कानून लागू कर दिए जाएंगे। कामरेड लेखराज ने कहा यदि मोदी सरकार की मंशा साफ होती तो जिन कानूनों को फिलहाल के लिए स्थगित किया गया है, उन्हें वापस ले लेती। उन्होंने कहा कि श्रमिको के मुद्दों को लेकर सीटू के केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर सीटू प्रदेश के सभी जनपद मुख्यालयों में 11 जनवरी को कामरेड नागेद्र सकलानी की शहादत दिवस पर मांगपत्र युक्त हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ करने जा रहा है, जिसका समापन 23 जनवरी को नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर होगा। मांगपत्र पर हजारों की संख्या में हस्ताक्षर होंगे, जिसे प्रधानमंत्री मोदी को प्रेषित किया जाएगा।

बैठक में सीआईटीयू के मसूरी नगर अध्यक्ष भगवान सिंह चौहान ने बढ़ती बेरोजगारी, मंहगाई व श्रमिको की समस्या पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि भाजपा की सरकार लगातार श्रमिकों की मांगों को नजरंदाज कर रही है। उन्होंने कहा कि लंबे समय से सीटू समेत तमाम श्रमिक संगठनों के द्वारा न्यूनतम 26000 करने, आशा, आंगनबाड़ी व भोजाताओं को राज्य कर्मचारी घोषित करने, सरकारी उपक्रमों के निजीकरण पर रोक लगाने, लगातार बढ़ती मंहगाई को नियंत्रित करने, पुरानी पेंशन बहाली, ऑटो, रिक्शा, श्रमिकों का उत्पीड़न बंद करने की मांग कर रहे है। लेकिन भाजपा सरकार श्रमिकों व आम जनता की इन समस्याओं का हल निकालने के बजाय अपना सांप्रदायिक एजेंडा पेश करने पर तुली हुई है। उन्होंने कहा कि इसी को देखते हुए सेंटर ऑफ इंडियन्स ट्रेड यूनियन के कार्यकर्ता 11 जनवरी को शहीद स्थल पर एकत्रित होंगे, जहां टिहरी जनक्रांति के नायक कामरेड नागेंद्र सकलानी की शहादत दिवस पर उनको श्रद्धांजलि अर्पित करेंगे। जिसके बाद सीआईटीयू द्वारा मांगपत्र युक्त हस्ताक्षर अभियान को लॉन्च किया जाएगा । इस मांगपत्र को लेकर सीआईटीयू के कार्यकर्ता घर घर जाकर जनता को उनकी समस्याओं को लेकर जागरूक करेंगे और मांगपत्र पर हस्ताक्षर करवाएंगे। जिसे 23 जनवरी को सुभाषचंद्र बोस की जयंती पर प्रधानमंत्री को भेजा जाएगा।

बैठक में सीपीएम के जिला सचिव व किसान नेता कामरेड राजेंद्र पुरोहित ने कहा कि भाजपा अपने सांप्रदायिक एजेंडे को आगे बढ़ा रही है और हम गरीब, मजदूर, किसान व आम जनता के मुद्दों पर बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार कॉरपोरेटपरस्त है, यही वजह है कि वह मजदूर किसान का दमन कर रही है। समय आ आर रहा है जब मजदूर किसान को इस सरकार को सबक सिखाना होगा। उन्होंने आह्वान किया कि सभी यूनियनें 11 जनवरी के कार्यक्रम को मिलकर सफल बनाएं। इस मौके पर यूनियनों को मजबूत करने पर भी जोर दिया गया।

बैठक को आंगनबाड़ी कार्यकत्री सेविका यूनियन की प्रदेश अध्यक्ष जानकी चौहान, सीआईटीयू की मसूरी सचिव ममता राव, उपाध्यक्ष कीर्ति कंडारी, होटल रेस्टोरेंट कर्मचारी संघ के महासचिव विक्रम बलूडी, आशा कार्यकत्री यूनियन की महासचिव सुनीता सेमवाल, आंगनबाड़ी कार्यकत्री यूनियन मसूरी की अध्यक्षा जयश्री बिष्ट, त्रिलोक सिंह चौहान आदि ने भी संबोधित किया।

बैठक में बैशाख सिंह मिश्रवान, राजेंद्र सिंह चौहान, विजय कुमार, रमेश, दिनेश भट्ट, राजेंद्र उनियाल, सोबन सिंह मेहर, शिक्षा डोभाल, स्वाति, उर्मिला असवाल, सुनीता तेलवाल,रामप्यारी डोभाल आदि सीटू कार्यकर्ता मौजूद रहे।

About Author

Please share us