March 4, 2024

जौनपुर विकास खंड में रही मौण मेले की धूम, अगलाड नदी में मछली पकड़ने उतरे ग्रामीण

मसूरी। मसूरी के निकटवर्ती जौनपुर विकास खंड की अगलाड़ नदी में सांस्कृतिक विरासत का अनोखा पर्व मौण मेंला हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर हजारों की संख्या में ग्रामीणों ने अगलाड़ नदी में पारंपरिक वाद्ययंत्रों की धुन पर मछलियों को पकड़ा। मेले में जौनपुर के साथ ही जौनसार व रंवाई आदि के ग्रामीण भी मछलियों का शिकार करने आते हैं व पूरे उत्साह के साथ नदी में उतरकर मछलियों को पकड़ते हैं।

बता दें मौण मेले को राजमौण भी कहा जाता है। उत्तराखंड की सांस्कृतिक विरासत में जौनपुर, जौनसार व रंवाई का विशेष महत्व है। इस क्षेत्र कों पांडवों की भूमि भी कहा जाता है। यहां वर्ष भर अनेक त्योहार आयोजित होते रहते हैं। वैसे तो पूरे उत्तराखंड में मेले व त्योहार होते रहते हैं। लेकिन जौनपुर, जौनसार व रंवाई की अनोखी सांस्कृतिक विरासत के तहत मछली मारने का मौण मेला प्रमुख है। जो पूरे देश में अन्यत्र कहीं नहीं होता। कहा जाता है कि जब यहां राजशाही थी, तब टिहरी महाराजा इसमें खुद शिरकत करने आते थे। इस मेले की अनेक विशेषताएं हैं। पहले तो यह अपने आप में  क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत में विशेष महत्व रखता है। इस मेले की खासियत यह है कि हर वर्ष मेले के आयोजन का जिम्मा अलग अलग क्षेत्र के लोगों का होता है। जिसे स्थानीय भाषा में पाली कहते हैं। जिस क्षेत्र के लोगों की पाली होती है वहां के लोग एक दो माह पहले ही तैयारी कर लेते हैं। क्योंकि इसमे मछलियों को मारने के लिए प्राकृतिक जड़ी बूटी का प्रयोग किया जाता है, जिसे स्थानीय भाषा में टिमरू कहते हैं। इस पौधे की छाल को निकाला जाता है तथा इसे सुखाकर कूटा जाता है व इसका पाउडर बनाया जाता है जिसे नदी में डाला जाता है। जिससे मछलियां बेहोश हो जाती है और लोग नदी में जाकर इन्हें पकड़ते हैं। जिस क्षेत्र की बारी होती है वहां के लोग बाकायदा तय दिन पारंपरिक वाद्ययंत्रों के साथ नाचते गाते उस स्थान पर जाते हैं, जहां से मौण डाला जाता है। उस स्थान को मौण कोट कहते हैं। यहां पर गांव का मुखिया पारपंरिक तरीके से पहले टिमरू के पाउडर को डालता है। उसके बाद सारा पाउडर जो बड़ी मात्रा में रहता है। नदी में डाला जाता है, जिसके बाद हजारों की संख्या में लोग मछलियों को पकड़ने नदी में कूद पड़ते हैं और देखते ही देखते पूरी नदी मछली मारने वालों से पट जाती है। करीब पांच किमी क्षेत्र में मछली पकड़ने वाले ही नजर आते हैं, जो यमुना नदी तक जाते हैं व मछली मारने के बाद ग्रामीण अपने घरों को लौट जाते हैं। इस मौके पर उनके चेहरे की रौनक देखते ही बनती है। नदी में मछली मारने वो लोग भी उतरते हैं, जो मांस मछली नहीं खाते, लेकिन अपनी परंपरा व संस्कृति से लगाव के चलते वह मछलियां पकड़ते है व घर में खाने वालों को परोसते है। इस मेले में मछलियां पकड़ने वालों के हाथों में पारंपरिक उपकरण होते हैं जिसमें कंडियाला, फटियाड़ा, जाल, खाडी, मछोनी आदि होते हैं। जिससे लोगों ने मछलियां पकड़ी।

इस बार पाउडर तैयार करने की पाली अपर लालूर पटटी की थी जिसमे देवन, घंसी, सल्टवाड़, ढकरोल, टिकरी, हडिया गांव, छानी, मिरिया गांव व खडकसारी गांव के लोगों ने पाउडर तैयार किया व पारंपरिक वाद्ययंत्रों के साथ नाचते गाते मौण कोट पहुंचे व वहां से नदी में पाउडर डालते ही हजारों लोग मछलियों को पकड़ने अपने पारंपरिक उपकरणों के साथ नदी में कूद जाते हैं।

About Author

Please share us