May 24, 2024

बड़ी खबर: हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय ने मसूरी एमपीजी कालेज समेत 10 अशासकीय डिग्री कॉलेजों को किया असंबद्ध

हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय ने इन अशासकीय डिग्री कॉलेजों को किया असंबद्ध

  • डीएवी पीजी कॉलेज, देहरादून डीबीएस पीजी कॉलेज, देहरादून
  • एमपीजी पीजी कॉलेज, मसूरी
  • एसजीआरआर पीजी कॉलेज, देहरादून
  • एमकेपी पीजी कॉलेज, देहरादून
  • डीडब्ल्यूटी कॉलेज, देहरादून
  • महिला विद्यालय डिग्री कॉलेज, सतीकुंड, कनखल, हरिद्वार
  • चिन्मय डिग्री कॉलेज, बीएचईएल, रानीपुर, हरिद्वार
  • बीएसएम कॉलेज, रुड़की, हरिद्वार
  • राठ महाविद्यालय, पैठाणी, पौड़ी

देहरादून/श्रीनगर। हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय ने अपने 10 अशासकीय डिग्री कॉलेजों को इसी सत्र से असंबद्ध (डिएफिलिएट) कर दिया है। यह निर्णय विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद की बैठक में लिया गया। इसकी सूचना केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और राज्य सरकार को भेज दी गई है। पुराने छात्र अभी विवि का हिस्सा बने रहेंगे।

बता दें ग्रेजुएशन-पीजी में नए अकादमिक सत्र के दाखिलों की तैयारियां चल रही हैं। इस बीच इन कालेजों को असंबद्ध कर देने से असहजता की स्थिति पैदा हो सकती है।

दरअसल, लंबे समय से इन अशासकीय डिग्री कॉलेजों को गढ़वाल विवि से असंबद्ध करने की कवायद चल रही थी। पिछले दिनों राज्य सरकार ने इन्हें वेतन देने से इन्कार कर दिया था। राज्य सरकार ने कहा था कि केंद्रीय विवि के कॉलेजों को वह अनुदान क्यों दें? इस बीच हाईकोर्ट में भाजपा नेता रविंद्र जुगरान ने याचिका भी दायर की थी, जिस पर हाईकोर्ट ने केंद्र व राज्य सरकार को निर्णय लेने को कहा था।दोनों ने इस मसले पर बातचीत की और केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने एक पत्र गढ़वाल विवि को भेजकर पूछा था कि इन कॉलेजों को कब से असंबद्ध कर सकते हैं। मामले में कुलपति प्रो. अन्नपूर्णा नौटियाल की अध्यक्षता में हुई परिषद की बैठक में निर्णय लिया गया, जिसके मिनट्स विवि ने जारी कर दिए हैं।

About Author

Please share us